बवासीर के दस घरेलू उपाय जिनसे अवश्य मिलेगा लाभ

बवासीर

दुनिया में बहुत लोग बवासीर से परेशान है। इंसान का उठना बैठना इसके कारण मुशकिल हो जाता। कई को बहुत ही असहनीय दर्द की अनुभूती होती है।
इस रोग का कारण खट्टी तले पदार्थ ,तेज मिर्च मसालेदार वस्तुएं ,कब्ज आदि है

क्या है बायो एनर्जी? कहां-कहां एकत्र होती है। जीव की बायो एनर्जी (Bio energy)कैसी होती है? : ( 👈जरूर पढ़ें)


ऐलोपेथी में इसका इलाज सिर्फ आप्रेशन है । लेकिन उसके बावजूद भी यह रोग दोबारा घेर लेता है । आखिर कितने आप्रेशन करवाए जाएं। लेकिन आपको घबराने की जरूरत नही। आयुर्वेद में इस रोग की बहुत सफल औष्धियाँ है। जो इस रोग को जड़ मूल से ठीक कर देती है

पहला घरेलु उपाय

50 ग्राम तिल को चबाकर खाने के बाद ऊपर से दही खा लेने से रक्तस्राव रूकता है ।

दूसरा घरेलु उपाय

मेथी बीज दूध में उबालकर लेने खूनी बवासीर में लाभ होता है

तीसरा घरेलु उपाय

10 ग्राम ईशबगोल भुसी रात को दूध से लें । इससे दोनों बवासीर में लाभ होगा ।

चौथा घरेलु उपाय

एक कप मूली के रस में देशी घी मिलाकर सुबह- शाम पीएं । मूली का सलाद भी ले सकते है ।

पाँचवा घरेलु उपाय

करेले का रस सुबह खाली पेट ले.

सातवाँ घरेलु उपाय

छाज पिए सुबह शाम 2 2 गिलास हल्का खाना खाये कुछ दिन..

गुनगुना दूध में नीबू निचोड़ कर पीएं ।नीबू काटकर उसमें कत्था लगाकर खाएं ।

आँठवा घरेलु उपाय

मूली को काटकर नमक लगाकर औस में रात को छत पर रख दें । सुबह खाली पेट खाएं । मूली की रस से गुदा को धोएं । बादी बवासीर के लिए भी कर सकते है

डिसमेनोरिया क्या है? उससे संबंधित समस्याओं की पूरी जानकारी ( 👈जरूर पढ़ें)

नौवा घरेलु उपाय

मूली के 125 एम.एल रस में 100 ग्राम देशी घी में बनी जलेबी को एक घंटा डूबो दें । फिर जलेबी खाकर रस पी लें । एक से चार हफ्ता तक करें । मूली को घी में भूनकर भी खा सकते है ।

दसवाँ घरेलु उपाय

गेहू के जवारे का रस ,गिलोय और ग्वारपाठा का रस 20 से 50 एम.एल सुबह खाली पेट लें।

Add a Comment

Your email address will not be published.