लो ब्लड प्रेशर हो सकता है जानलेवा, बचने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपचार…

लो ब्लड प्रेशर हो सकता है जानलेवा, बचने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपचार…
निम्न रक्तचाप की अनदेखी जानलेवा साबित हो सकती है, इसलिए इससे निपटने के उपायों की जानकारी जरूरी है।

आज की इस रफ्तार भरी और अनियमित जीवनशैली में हर कोई तनाव से ग्रस्त है।
इस कारण रक्तचाप में असंतुलन की शिकायत घर-घर की कहानी बन चुकी है।
कहीं आप निम्न रक्तचाप से परेशान तो नहीं हो रहीं?
अगर ऐसा है तो आपको इस पर ध्यान देने की जरूरत है।


यदि आपके बीपी की रीडिंग 90 और 60 से कम है, तो आपको हाइपोटेंशन यानी निम्न रक्तचाप की समस्या है। अकसर महिलाएं लो ब्लड प्रेशर होने की स्थिति को हल्के में ले लेती हैं,जो कि सही नहीं है। अगर रक्तचाप बहुत कम हो जाए तो ऑर्गन फेल्योर से लेकर दिल का दौरा पड़ने जैसी खतरनाक स्थिति पैदा हो सकती है।


क्यों होता है रक्तचाप कम..?

निम्न रक्तचाप होने के कई कारण हो सकते हैं, जिसमें अत्यावश्यक विटामिन जैसे बी-12 और आयरन की कमी, हार्मोन असंतुलन, डायबिटीज या लो ब्लड शुगर, हृदय की असामान्य धड़कनें, हार्ट फेल्योर, रक्त नलिकाओं का फैल जाना, स्ट्रोक, लिवर की बीमारियां, गर्भावस्था, शरीर में पानी की कमी, किसी दवा का साइड इफेक्ट, जेनेटिक कारण, तनाव या बहुत देर तक भूखा रहना आदि प्रमुख हैं। यही नहीं, निम्न रक्तचाप दिल की बीमारियों की ओर भी इशारा करता है। रक्तचाप का सीधा संबंध दिल की पंपिंग से होता है। जब धमनियों में कोई अवरोध होता है, तब ब्लड पंपिंग में दिक्कत होती है और शरीर के विभिन्न अंगों तक खून सही तरीके से पहुंच नहीं पाता है।

अपने घुटने कभी मत बदलिये, पहले 30 दिन ये कर के जरूर देख ले, पछतावा नही होगा. (👈👈👈इसे भी पढ़ें)


सामान्य परिस्थितियों में निम्न रक्तचाप को सामान्य करने के लिए किसी मेडिकल देखभाल की जरूरत नहीं है।



आप इसे घरेलू उपचार की सहायता से भी सुधार सकती हैं। कैसे?
आइए जानें:

नमक का पानी पिएं


ज्यादातर डॉक्टर बीपी कम होने पर नमक वाला पानी पीने की सलाह देते हैं, क्योंकि नमक में सोडियम होता है, जो रक्तचाप बढ़ाने में मदद करता है। रक्तचाप कम होने पर एक गिलास पानी में आधा चम्मच नमक डालकर पी सकती हैं।
बहुत बार शरीर में पानी की कमी के कारण भी हाइपोटेंशन हो जाती है।
जब भी ऐसी किसी परेशानी से सामना हो तो पानी जरूर पीजिए।
शरीर में पर्याप्त मात्रा में पानी होगा तो रक्तचाप सामान्य हो जाएगा।
आप मौसम के अनुसार नारियल पानी, आम पन्ना, अनार का जूस और बेल का शरबत आदि का भी सेवन कर सकती हैं।

कोरोना के तीसरे स्ट्रेन से बच्चों को बचाने अभी से करे तैयारी, इलेक्ट्रो होम्योपैथी और अन्य घरेलू नुस्खे से ऐसे बढ़ाई जा सकती है बच्चों की इम्यूनिटी (👈👈👈इसे भी पढ़ें)

खाने का अंतराल कम रखें


रक्तचाप कम होने पर कम-कम अंतराल पर थोड़ा-थोड़ा सेहतमंद खाना खाएं।
इस तरह से खाने से आपका मेटाबॉलिज्म मजबूत होगा, ब्लड शुगर का स्तर ठीक रहेगा और शरीर में भरपूर मात्रा में ऊर्जा रहेगी।
हर महिला के शरीर की जरूरत अलग होती है, इसलिए अपने शरीर की जरूरत के अनुसार ही खाएं।
आपको दिन भर में कितनी बार खाना खाना है, यह डॉक्टर की सलाह के अनुरूप तय करें

लक्षणों को अच्छी तरह से जानें


अधिकांश महिलाओं की आदत होती है कि वे सेहत से जुड़ी छोटी-मोटी समस्याओं की अनदेखी करती रहती हैं।
यह गलती करने से आप बचें।
हल्की कमजोरी, चक्कर आना, आंखों के आगे अंधेरा छाना, सीने में दर्द, धुंधला दिखाई देना, बार-बार प्यास लगना, बेचैनी व अवसाद आदि निम्न रक्तचाप की निशानियां हैं।
जब भी इनमें से कोई भी लक्षण खुद में नजर आएं, तो उन्हें नजरअंदाज नहीं करें और समय रहते डॉक्टरी परामर्श लें

ल्यूकोरिया अलग अलग महिलाओं में इसकी मात्रा स्थिति और समय अबधि अलग अलग कैसे होती है??? (👈👈👈इसे भी पढ़ें)

पैरों को क्रॉस करके बैठें


जब भी रक्तचाप कम महसूस हो तो तुरंत अपने बैठने की पोजीशन में बदलाव लाएं और दोनों पैरों को क्रॉस करके बैठें।
एक पैर को दूसरे पैर के ऊपर रखकर बैठने से रक्तचाप तेजी से बढ़ता है।
साथ ही अपनी मुट्ठी को भी बांधती और खोलती रहें।
इस एक्सरसाइज से भी आपका रक्तचाप संतुलित रहेगा

उठने-बैठने की पोजीशन एकदम न बदलें


यदि बार-बार आपका रक्तचाप कम हो जाता है, तो अचानक झटके में अपनी पोजीशन को न बदलें।
यदि आप कहीं खड़ी हैं तो अचानक बैठे नहीं और न ही झटके से खड़े होने की गलती करें।
ऐसा करने से आपको चक्कर आ सकता है और आंखों के आगे अंधेरा छा सकता है।
रक्तचाप कम हो और शरीर की स्थिति में अचानक बदलाव लाया जाए तो दिल शरीर की जरूरत के अनुरूप खून को पंप नहीं कर पाता है।


सुधारें अपनी डाइट


अगर लंबे समय से निम्न रक्तचाप की समस्या से जूझ रही हैं तो अपनी डाइट पर ध्यान दें और उन खाद्य पदार्थों को पहचानने की कोशिश करें, जिन्हें खाने के बाद आपका रक्तचाप अचानक से कम हो जाता है। ऐसे खाद्य पदार्थों से दूरी बनाकर रखें।
इसके अलावा अपनी डाइट में हरी पत्तेदार सब्जियां, मौसमी फल, गहरे रंग के खाद्य पदार्थ जैसे काले अंगूर, काले खजूर व आलू बुखारा, सूखे मेवे, लो।
फैट मीट, साबुत अनाज और लहसुन को जरूर शामिल करें।

क्या है बायो एनर्जी? कहां-कहां एकत्र होती है। जीव की बायो एनर्जी (Bio energy)कैसी होती है? : (👈👈👈इसे भी पढ़ें)


इनमें प्रोटीन, विटामिन और फाइबर उचित मात्रा में होता है और इनके सेवन से रक्तचाप संतुलित रहता है।

इस तरह आप अपनी निम्न रक्तचाप की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं, आपको यह पोस्ट कैसा लगा हमे जरूर बताएं

Add a Comment

Your email address will not be published.