कोरोना के तीसरे स्ट्रेन से बच्चों को बचाने अभी से करे तैयारी, इलेक्ट्रो होम्योपैथी और अन्य घरेलू नुस्खे से ऐसे बढ़ाई जा सकती है बच्चों की इम्यूनिटी

कोरोना के तीसरे स्ट्रेन से बच्चों को बचाने अभी से करे तैयारी, ऐसे बढ़ाई जा सकती है बच्चों की इम्यूनिटी


देश भर में कोरोना का कहर जारी है। ऐसे में दूसरे स्ट्रेन के बाद कोरोना के तीसरे स्ट्रेन की आने की बात विशेषज्ञ कह रहे है। माना जा रहा है कि तीसरा स्ट्रेन बच्चों को अपनी चपेट में लेगा।

कोरोना वायरस के कारण कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों को ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए इससे बचने की तैयारी पहले ही करना बेहतर होगा।

इस लेख में छत्तीसगढ़ के मशहूर वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति के विशेषज्ञ डॉ हलधर पटेल ने बच्चों की इम्यूनिटी को बढ़ाने आयुर्वेद व वैकल्पिक चिकित्सा के उपाय बताए है। जिससे बच्चों की इम्यूनिटी को बढ़ाया जा सकता है। ताकि वह किसी भी आने वाले इंफेक्शन या रोग से लड़ने के लिए पहले से तैयार हो जाए।

हल्दी
हल्दी को आयुर्वेद में काफी फायदेमंद माना जाता है। इसमें एंटीआक्सीडेंट और एंटी इंफ्लमेटरी गुण होते है, जो बच्चों के इम्यून सिस्टम को मजबूत बना सकते है। साथ ही संक्रमण व रोगों से लड़ने में मजबूती प्रदान कर सकते है।

आंवला
आंवला विटामिन सी का एक बेहतरीन स्त्रोत है। विटामिन सी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए काफी लाभदायक होता है। इससे सर्दी-जुकाम जैसे इंफेक्शन से लड़ने में सहायता मिल सकती है। इसके अलावा आंवला स्किन, हेयर व मधुमेह के रोगियों के लिए काफी लाभकारी होता है।

तुलसी
तुलसी में औषधीय गुणों का खजाना छिपा हुआ है। इसके अंदर विटामिन ए और विटामिन सी मौजूद होता है। यह इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ-साथ गले व सांस संबंधी इंफेक्शन से लड़ने में मदद कर सकती है।

शहद
शहद के अंदर काफी मात्रा में एंटी-बैक्टीरियल, एंटी माइक्रोबियल और एंटीआक्सीडेंट्स गुण होते है। जो किसी भी संक्रमण की वजह से होने वाली खांसी, गले की खराश में राहत प्रदान कर सकते है।

दालचीनी
शरीर में आने वाले किसी भी प्रकार के संक्रमण को दालचीनी संतुलित कर शरीर में प्रतिरक्षा तंत्र तैयार करने का कार्य करता है

इलेक्ट्रोहोम्योपैथी
जो हमारे वनस्पति जगत से ही प्राप्त पेड़ पौधे होते हैंयह ऐसी दवाओं का समूह है इनसे हमारी प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करके आने वाली किसी भी प्रकार की लहर बचाव किया जा सकता है पहली लहर तथा दूसरी रहर में कई लोग इलेक्ट्रो होम्योपैथी दवा से ठीक हुए हैं अधिक जानकारी के लिए आप किसी भी इलेक्ट्रो होम्योपैथी मिलकर जानकारी ले सकते हैं आप को होने वाली तकलीफ  की दवा के साथ साथ इसमें सिंथेसिस नाम का एक द्रव्य दवाई भी दिया जाता है जिससे हमारी मिलती कई गुना तक बढ़ जाती है

बायोकेमिक
प्रकृति में पाए जाने वाले विभिन्न प्रकार के लवण कोही बायोकेमिक की दवाओं के रूप में उपयोग किया जाता है इसमें विभिन्न प्रकार की मिनरल होने की वजह से यह इम्यूनिटी में हमारी सहायता कर सकता है एक प्रशिक्षित बायोकेमिक चिकित्सक से आप इनकी दवाओं का सलाह ले सकते हैं

वाष्प थेरेपी
ना जाने कितने वीडियो से हम सर्दी अथवा अन्य बीमारियों के लिए वाष्प थेरेपी का उपयोग करते आ रहे हैं, महामारी काल में भी देखा गया है जिनके रेगुलर वास्को लेने की दिनचर्या रही है उनमें यह संक्रमण कम पाया गया है

ऐसे भी और कई पद्धतियां हैं जिन्हें आप चिकित्सा के रूप में इस्तेमाल कर स्वस्थ हो सकते हैं हमारे आने वाले अन्य पोस्ट के माध्यम से आपको ऐसे ही लगातार जानकारी मिलती रहेगी

Add a Comment

Your email address will not be published.